होली पर कविता – (हिंदी कविताओं का बेस्ट कलेक्शन)

वसंत ऋतु की बहार, चली पिचकारी उड़ा है गुलाल,रंग बरसे नीले हरे लाल,मुबारक हो आपको होली का त्यौहार| आपको HindiMeStatus.com टीम की और से होली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

नमस्कार दोस्तो,आपका स्वागत है आपकी अपनी वेबसाइट HindiMeStatus.com पर, आपको यह जानकर बहुत खुशी होगी की हम आपके लिए लेकर आये है होली पर कविता का बेस्ट कलेक्शन जिसको आप होली के दिन इस्तेमाल कर सको.

होली एक ऐसा पवित्र त्यौहार है जो वसंत ऋतु में मनाया जाता है| होली के त्यौहार का स्वागत भारत और नेपाल मे बड़े धूमधाम के साथ किया जाता है|

इस दिन लोग सारे पुरानी दुश्मनी भूलकर एक दूसरे के गले लग जाते है| और इस त्यौहार की पहचान है रंग और गुजिया| अगर होली के त्यौहार मे ये दो चीज़ ना हो तो होली बहुत फीकी फीकी लगती है.

आज के इस लेख में आपको मिलेंगी होली पर कविता जिन्हे आप अपने स्कूल मे होली के उपलक्ष मे बोल सकते हो और होमवर्क में लिखकर लेजा भी सकते हो और अपने किसी रिश्तेदार या दोस्त, भाई – बहन को शेयर कर सकते हो ये कविता बहुत शानदार है.

Holi Kavita को आप ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर कीजिये जिससे की और लोग भी देख सके और खुद भी इस्तमाल कर सके| आप इन्हें कॉपी पेस्ट भी कर सकते है| तो चलिए लेख पड़ना शुरू करते है.

होली पर कविता – Holi Kavita in Hindi

होली पर कविता

रंगों की बरसात हो,
रंगीन पलों का एहसास हो,
हर पल खुशियो से रंग जाये,
तभी तो कुछ बात हो,

खुश रहे आप, उठाए आनद इस दिन का,
इस रंगीन होली मे मेरी तरफ से मुबारक बाद हो|
पिचकारी मे रंग हो, मन मे भी उमंग हो,
दोस्तो का का संग हो, ना किसी से जंग हो,
दूध मे भांग हो, मस्ती की तरंग हो,

कुछ ऐसा करे इस होली मे, की सब देखकर दंग हो|
होली को हम इस तरह से मनाएँ,
की सारे वैर – भाव और दुश्मनी मिट जाये,
बेगाने भी अपने हो जाये,
अपने और करीब आ जाये,

ये प्यारा त्यौहार है खुशियों का,
जब साथ होता है अफ्नो का,
हरेक पल, इस कदर रंगिनियों मे रंग जाये,
की होली के त्यौहार को हम कभी ना भूल पायें,

होली पर बाल कविता – Holi Poem in Hindi For Class 2

निकल पड़ी मद मस्त ये टोली, सबकी जुबां पे एक ही बोली
फिर से सजेगी रंग की महफिल, प्यार की धारा बनेगी होली|
होली के औज़ार कई है, जोड़ने वाले तार कई है|
रंग बिरंगे बादल से, होली वाली बौछार कई है|

पिचकारी का ज़ोर क्या कम है, बंदूक मे ही रहने दो गोली|
फिर से सजेगी रंग की महफिल, प्यार की धारा बनेगी होली|
कब तक रूठे रहोगे तुम, बोलो कुछ क्यो हो गुमसुम|
तुमको रंग लगाने कट जाएगी दुम|

कड़वाहर की कैद से निकलो, अब तो बन जाओ हमजोली
फिर से सजेगी रंग की महफिल, प्यार की धारा बनेगी होली|
मन मे नहीं कपट छल हो, ऊंचा बहुत मनोबल हो|
होली के हर रंग समेटे दिल पावन गंगाजल हो|
अंतर मन भी स्वच्छ हो पूरा, सूरत अगर है प्यारी भोली|

फिर से सजेगी रंग की महफिल, प्यार की धारा बनेगी होली|
निकल पड़ी मद मस्त ये टोली, सबकी जुबां पे एक ही बोली
फिर से सजेगी रंग की महफिल, प्यार की धारा बनेगी होली|

होली पर छोटी कविता – Poem on Holi in Hindi For Class 4 To 6

रंग -रंगीली मस्ती वाला,
आया है होली का त्यौहार।
प्रेम भाव से इसे मनायें,

न हो कोई भी तकरार।
रंग -बिरंगे इस पर्व पर,
होता बिना किये श्रृंगार।

नाचे गायेंग ढोल बजायें,
हम बच्चों की टोली भरमार।
रंग लगायें एक दूजे को,

करे प्रेम रस की बौछार।
जाती -मजहब सब भूले आज,
बड़ों को आदर , छोटो को दें प्यार।

रीत -प्रीत , गीत -मीत और,
रंग उमंग तरंग उपहार।
भेद भाव मिटाने दिल का,
आता है होली का त्यौहार।

होली पर हास्य कविता – Hindi Hasya Kavita on Holi

सबको रंगो का सतरंगी संसार मिले,
सबसे पहले खुशियों का द्वार मिले.

भूल जाये नफरते जो गैर हुए है जो अपनों से,
अपनों को अपनों का प्यार मिले….

जातिवाद के भेदभाव को अब तो तिरस्कार मिले,
21वीं सदी है सबको बराबर का अधिकार मिले….

दीवाने जो बने हुये है कान्हा,
रंगो मे डूब कर उन्हे उनका प्यार मिले…

सड़कों पर गरीबी जो घूम रही है,
उन बच्चो को भी रंगो की बौछार मिले….

बुजुर्ग जो मुस्कुरा रहे है देखकर
गुजियों के संग उन्हे पुराने यार मिले…..

होली पर रुला देने वाली कविता – Best Holi Kavita in Hindi

जामने से गम छुपाने के लिए चेहरे पर रंग लगा रखा है,
पर तेरी यादों ने रंगो का रंग फीका बना रखा है
यारो की भीड़ है तो मेरे पास भी पर,

अंदर तनहाई का आलम सजा रखा है…
गुलाल आंखो के पास आकार भीग जाता है,
हमने निगाहों मे ठहरा हुआ समंदर बसा रखा है….

अपने तरीके से करके इस्तेमाल छुड़ा लेते है साथ रंगो से,
खुदा ने तेरे खातिर हमको ऐसा ही रंग बना रखा है…..
भरी बाल्टी के पानी का रंग भी असर नहीं करता,

तेरी यादों की दरिया मे हमने खुद को ऐसा डूबा रखा है…..
जामने से गम छुपाने के लिए चेहरे पर रंग लगा रखा है,

होली बधाई कविता – Holi Poems in Hindi Funny

आई होली आई होली,
आई होली रे…

रंग लगाओ ख़ुशी मनाओ,
आई होली रे..

खूब मिठाई और पिचकारी,
आई होली रे…

सबको बाटो खुशियाँ ही खुशियाँ,
आई होली रे..

आई होली आई होली,
आई होली रे…

रंग लगाओ ख़ुशी मनाओ,
आई होली रे…
आई होली रे, आई होली रे

होली पर कविता पर लिखा गया लेख अगर आपको पसंद आये तो आप इसे फेसबुक, व्हाट्सएप्प, ट्विटर इत्यादि पर जरुर शेयर करे|

अगर आपको कोई कविता आती है और आप उसे हमारी वेबसाइट पर अपलोड करवाना चाहते है तो फिर आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख सकते है.

हम आपके लिए ऐसी नए – नए लेख लेकर आते रहेंगे| इसलिए आप हमारी वेबसाइट का नोटिफिकेशन ओन कर ले जिससे आपको हमारे हर लेख की जानकारी मिलती रह करेगी.

एक बार फिर से आप सभी को HindiMeStatus.com टीम की और से होली की हार्दिक शुभकामनाएँ| 🙂

Leave a Reply