प्रेरणादायक लेख

विचारो की शक्ति

hindimestatus
Written by HindiMeStatus

नमस्कार दोस्तो आपका स्वागत है आपकी वैबसाइट “www.hindimestatus.com” में ।आज का शीर्षक है ” विचारो की शक्ति “।

hindimestatus

किसी ने सही ही कहा है की ” जैसा हम सोचते हैं वैसे ही हम बन जाते हैं ।”
अगर इस पंक्ति की गहराई में जाकर हम विचारो की शक्ति के बारे में समझ गए तो बेशक हम अपनी ज़िंदगी में क्रांति ला सकते हैं ।जी हाँ हम अपने विचारो की शक्ति से जीवन को नयी दिशा दे सकते हैं ।हमारे विचार ही हमारे व्यक्तित्व को बनाते हैं ।यदि हम अपने विचारो को सही दिशा देना सीख गए तो ज़िंदगी की बड़ी से बड़ी उलझन को बड़ी ही आसानी से सुलझा सकते हैं ।

hindimestatusविचार क्या होते हैं ?

हम अपने पूरे दिन में सुबह से शाम तक जो भी सोचते हैं उन्हे विचार कहते हैं ।एक दिन में एक इंसान के मस्तिष्क में लगभग लाखो विचार आते हैं ।ये विचार कभी अतीत के होते हैं तो कभी भविष्य के सपनों के बारे में होते हैं । हम को पता ही नहीं चल पाता की कैसे हमारे दिमाग में एक विचार आता है और फिर कैसे उस से संबन्धित और विचारो की कड़ी बन जाती है ।और कभी -कभी तो हम उन विचारो में ऐसे खो जाते हैं की हम ये भूल ही जाते हैं की हम क्या सोच रहे थे ।उदाहरण के तौर पर अगर सुबह जागने के बाद हमारे मन
में कोई अच्छा विचार आता है तो हमारे दिन का ज़्यादातर वक़्त अच्छा ही जाता है और वही अगर बुरा विचार आ गया तो हमारा ज़्यादातर दिन बुरा ही बीतता है ।इसलिए इन विचारो को नियंत्रण में रखना बहुत आवश्यक है ।

विचारो का महत्व

विचारो का महत्व तो इतना है की उसे कुछ शब्दो में लिखना आसान नहीं हैं ।उदाहरण के तौर पर मान लेते हैं दो व्यक्ति हैं ,एक व्यक्ति बहुत अच्छे और आशावादी विचारो वाला और वही दूसरी और एक व्यक्ति नकारात्मक विचारधारा वाला है ।और दोनों ही अपने काम में बराबर मेहनत करते हैं ।परंतु पहला व्यक्ति सफल है और दूसरा व्यक्ति असफल ।यह है विचारो की शक्ति ,जिसे लोग अक्सर किस्मत का नाम दे देते हैं ।हमारे विचार ही हमारा भविष्य बनाते हैं ।आज हम जो भी हैं उसका मुख्य कारण यही है की हम क्या सोचते हैं
।हम अपने मन में जिस तरह के बीज बोएँगे वैसे ही भविष्य की हम फसल काटेंगे ।विचार मनुष्य को आबाद भी कर सकते हैं और बर्बाद भी कर सकते हैं ।हम अपनी ज़िंदगी में बदलाव तो चाहते हैं पर चाहकर भी हम अपने आपको बदल नहीं पाते क्यूंकी हम अपने विचारो को नहीं बदल पाते हैं ।जब तक विचारो में परिवर्तन नहीं होगा तब तक ज़िंदगी में परिवर्तन असंभव है ।

विचारो को कैसे बदले ?

विचारो को बदलने के लिए हम को अपने मन को नियंत्रित करना होगा ।इसके लिए हम को अपनी पुरानी विचारधारा को तोड़ना होगा ।इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है की दुनिया हमारे बारे में क्या सोचती है ? फर्क इस बात से क्या पड़ता है की हम अपने बारे में क्या सोचते हैं ।अगर हम जीवन के प्रति एक सकारात्मक दृष्टि रखेंगे तो ये जीवन भी हम को वो दिशा दिखाएगा जिस पर चलकर हम अपनी ज़िंदगी में खुशहाली ला सकते हैं ।हम को लोगो के प्रति भी अपना नज़रिया बदलना होगा ,हमे यह समझना होगा की किसी भी व्यक्ति के लिए नकारात्मक विचार रखने से हमारा कोई फायदा नहीं है बल्कि ऐसा करके हम अपने विचारो को ही दूषित कर रहे हैं ।विचारो को नियंत्रित करने के लिए ध्यान सबसे कारगर रास्ता है ।जब हम ध्यान में होते हैं तो हमारे पास यह शक्ति होती है की हम अपने विचारो का आंकलन कर सके ।और यदि हमे अपने विचारो का आंकलन करना आ गया तो संभव ही हम ने अपने जीवन के चक्रव्यूह का तोड़ समझ लिया ।जीवन की कोई समस्या हमे अपने मार्ग से नहीं भटका सकती जब तक की हमारे विचारो ने उस समस्या को जटिल ना बना दिया हो ।विचारो को नियंत्रित करने के लिए हमे थोड़े सब्र की आवश्यकता होती है ।विचारो की तो वो शक्ति होती है जिसे आप अपने सपने में भी नहीं सोच सकते ।

समझ आया दोस्तो हमारे जीवन में जो भी यह अच्छा या बुरा हो रहा है यह सब मात्र हमारे विचारो का ही खेल है ।अपने इन नकारात्मक विचारो को बदलकर सकारात्मक बनाए जीवन में निश्चय ही आपको सफलता मिलेगी ।
आशा करते हैं की आपको ये हमारी ये पोस्ट ज़रूर पसंद आएगी ।

About the author

HindiMeStatus

Leave a Comment