Childrens Day

बाल दिवस पर भाषण – New Speech on Children’s Day in Hindi

बाल दिवस पर भाषण
Written by HindiMeStatus

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका आपकी अपनी वेबसाइट HINDIMESTATUS.com पर| आज हम आपके लिए बाल दिवस पर भाषण का लेख लेकर आये है.

भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है|

14 नवंबर को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू (चाचा नहेरु) का जन्मदिन होता है| इसे बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि उन्हें बच्चों से बहुत प्यार था और बच्चे उन्हें चाचा नेहरू कह कर पुकारते थे.

बाल दिवस बच्चों को समर्पित भारत का एक राष्ट्रीय पर्व है.

यह राष्ट्रीय पर्व भारत के स्कूलो, कॉलेजो आदि मे बड़े उल्लास के साथ मनाया जाता है और इसमे तरह तरह के कार्यक्रम शामिल होते है| स्कूलो मे बच्चे तरह तरह के स्टॉलस लगाते है और इस दिन बच्चो को शिक्षको द्वारा उनका महत्व समझाया जाता है.

बाल दिवस के एक दिन पहले सभी स्कूलो मे बाल दिवस मनाया जाता है और बच्चो को भाषण लिख कर लाने को कहा जाता है इसलिए हम आपके लिए लेकर आए है बहुत ही सुंदर और शानदार बाल दिवस पर भाषण का बेस्ट कलेक्शन जिसे आप अपने स्कूल मे लिख कर लेजा सकते हो और सुना भी सकते हो.

बाल दिवस पर भाषण को आप ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पर शेयर कीजिये जिससे की और लोग भी देख सके और खुद भी इस्तमाल कर सके| आप इन्हें कॉपी पेस्ट भी कर सकते है| तो चलिए लेख पड़ना शुरू करते है.

Children’s Day Speech in Hindi For Students – बाल दिवस पर भाषण

Children's Day Speech in Hindi For Students

आदरणीय  प्रधानाध्यापक सर, मैडम और मेरे प्यारे मित्रो को मेरा नम्र नमस्कार एवं बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाए|

जैसा कि हम सभी जानते है कि हम यहाँ बाल दिवस को मनाने के लिए इकट्ठा हुये है|

मैं बाल दिवस के इस अवसर पर अपने विचार रखना चाहता हूँ| हर वर्ष 14 नवम्बर को पूरे उत्साह के साथ भारत मे बाल दिवस को मनाया जाता है| इसे शिक्षको और विद्यार्थियों के द्वारा स्कूल और कॉलेजो मे पूरे जुनून और उत्सुकता के साथ मनाया जाता है.

14 नवम्बर जवाहरलाल नेहरू जी का जन्म दिवस है| वे स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री थे| उनका जन्म दिन बाल दिवस के रूप मे इसलिए मनाया जाता है क्योंकि वह बच्चों से बहुत प्यार और स्नेह करते थे|

उन्होने अपने पूरे जीवनभर बच्चो को बहुत महत्व दिया और वह उनसे बात करना भी बहुत पसंद करते थे|

वह हमेशा बच्चो के बीच मे घीरे होना पसंद करते थे| बच्चे उन्हे प्रेम से चाचा नेहरू कहते थे और बच्चो के प्रति इसी प्रेम के कारण 1964 मे, उनकी मृत्यु के बाद से, उनका जन्मदिन पूरे भारत मे बाल दिवस के रूप मे मनाया जाने लगा.

वह अपने पूरे जीवन भर गुलाबो और बच्चो के शौकीन थे| एक बार उन्होने कहा था की, बच्चे बगीचे की कलियो की तरह होते है| वह देश मे बच्चो की स्थिति को लेकर बहुत चिंतित थे क्योंकि वह बच्चो को देश का भविष्य समझते थे|

वह चाहते थे की, देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए बच्चे बहुत ही सावधानी और प्यार से उनके माता-पिता के द्वारा पोषित किए जाये| पं नेहरू हमेशा बच्चो को पूरे जीवन भर देशभक्त और राष्ट्रप्रेमी बनने की सलाह देते थे|

वह हमेशा बच्चो को अपनी मातृभूमि के लिए साहसिक कार्ये करने और बलिदान देने के लिए प्रेरित करते थे| चाचा नेहरू का मानना था की बच्चे नाजुक मन के होते है और हर बात उनके दिमाग पर असर डालती है.

उनका आज, देश के आने वाले कल के लिए बेहद महत्वपूर्ण है| इसलिए उन्हे दिए जाने वाले ज्ञान और संस्कारो पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाना चाहिए| इसके साथ ही बच्चो की मानसिक और शारीरिक सेहत का ख्याल रखना भी बेहद जरूरी है|

बाल दिवस मनाने का एक महत्वपूर्ण कारण बच्चो के प्रति समाज का कर्तव याद दिलाना भी है क्यूकी आधुनिक समय मे उनका कई तरीको से शोषण हो रहा है जो की पूरे देश के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकता है |

अंत हम सभी को समाज के प्रति अपने कर्तव को समझते हुए तथा बच्चो के प्रति अपनी ज़िम्मेदारी को पूरी तरह से निभाते हुए, बाल दिवस के सही महत्व को समझना चाहिए| बच्चे देश का भविष्य है तथा बहुत ही कीमती है, ये हमारे कल की उम्मीद है| बाल दिवस उत्सव उनके भविष्य के संदर्भ मे एक अच्छा कदम है|

||जय हिन्द जय भारत||

Speech on 14 November Children’s Day in Hindi – बाल दिवस पर भाषण स्कूली बच्चों के लिए हिन्दी में

Speech on 14 November Children's Day in Hindi

सम्मानयोग्य प्रधानचार्य, आदरणीय शिक्षको सम्मानित माता-पिता और मेरे प्यारे साथी छात्रों, बच्चा चाहे किसी देश का भी क्यो न हो, उसे देश का भविष्य माना जाता है|

इस तरह हमारे देश के बच्चे, हमारा भविष्य है| आज की पाठशालाओ मे पढ़ रहे बच्चे ही आने वाले समय मे आदर्श नागरिक बनेगे| इस लिए जरूरी है की हमारी विधिक संस्थाओ का स्तर बहुत ऊंचा होना चाहिए|

भारत के शिक्षको का कर्तव्य है की वे हमारे बच्चो की सोचने की और काम करने की शक्ति मे इस तरह का परिवर्तन लाएँ की यही बच्चे बड़े होकर सदाचारी और योग्य नेता, सफल उधयोगपति, निपुत्र कलाकार, ईमानदार, योग्य डॉक्टर, देशभक्त सैनिक व सेनापति, निस्वार्थ अधिकारी, कर्मचारी अथवा व्यपारी बने|

भारत के पहले प्रधानमंत्री पं जवाहरलाल नेहरू, बच्चो की इसी भावी शक्ति को समझते हुए, उनसे बहुत प्रेम करते थे|

बच्चे भी उनकी इस भावना की बहुत कदर करते थे और उन्हे चाचा नेहरू के नाम से पुकारते थे| इसलिए प्रतिवर्ष 14 नवम्बर को, नहरुजी का जन्मदिन, बालदिवस के रूप मे मनाया जाता है|

बाल दिवस के अवसर पर भारत मे सभी स्थानो पर विशेष तौर पर, स्कूलो व कॉलेजो मे बच्चो के लिए मनोरंजन कार्यक्रम किये जाते है| संगीत, नृत्य, नाटक, तमाशे आदि अन्य कई प्रकार की संस्कृतिक गतिविधियो का आयोजन किया जाता है.

विध्यार्थी वाद-विवाद, खेलकुद, फैशन|-शौ, फेंसी-ड्रेस, रंगोली, पेटिंग, चित्रकारी, लिखावट आदि प्र्तियोगताओ मे भाग लेकर अपनी प्र्तिभा दिखाते है|

स्कूलो मे तो बाल दिवस का कार्यक्रम कई दिनो तक चलता रहता है| बहुत से स्कूलो मे बच्चे मनोरजन स्टॉल भी लगाते है जिनमे भिन-भिन प्रकार के खेलो का प्रबंध किया जाता है| कई स्थानो पर बाल मेले भी लगते है.

भारत के प्रधानमंत्री और अन्य राजनेता बच्चो को संबोधित करते हुए उनको शुभ संदेश देते है| इस तरह बालदिवस का कार्यक्रम खुशी-खुशी समाप्त होता है|

आज का बालदिवस सब के लिए बहुत ही खुशियो भरा और शुभ हो|

||जय हिन्द जय भारत||

Children’s Day Short Speech in Hindi – बाल दिवस पर भाषण हिंदी में 200 शब्द

Children's Day Short Speech in Hindi

‘बाल दिवस’ 14 नवम्बर को मनाया जाता है| यह भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन होता है| इसी को बाल दिवस के रूप मे मनाते है|

पं नेहरू को बच्चो से बहुत प्यार था और बच्चे उन्हे चाचा नेहरू पुकारते थे| पं नेहरू अपने देश को आजाद कराना चाहते थे| उनमे देश-भक्ति कूट कूट कर भरी थी| स्वतंत्रता-संग्राम मे उन्हे अनेक यातनाए सहनी पड़ी|

किया बार उनको जेल भेजा गया सन 1947 मे भारत को स्वतंत्रता मिली| नेहरु जी को प्रधानमंत्री चुना गया| उन्होने देश की गरीबी को दूर करने का प्रयतन किया| वह भारत मे समाजवाद का स्व्पन देखते थे| वह अपना सारा समय देश की स्मस्याओ को सुलझाने मे व्यतित करते थे|

बाल दिवस बच्चो के लिए महत्वपूर्ण दिन होता है| इस दिन स्कूली बच्चे बहुत खुश दिखाई देता है| वे सज धज कर विध्यालय जाते है| विध्यालयों मे बच्चो के विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाते है|

बच्चे चाचा नेहरू को प्रेम से स्मरण करते है| नृत्य, गान एवं नाटक आदि का आयोजन किया जाता है| बाल दिवस के अवसर पर केंद्र तथा राज्य सरकार बच्चो के भविष्य के लिए कई कार्यक्रमो को घोषणा करती है|

||जय हिन्द जय भारत||

Speech on Children’s Day in Hindi – चिल्ड्रन्स डे स्पीच इन हिंदी – बाल दिवस पर भाषण

Speech on Children's Day in Hindi

आदरणीय महानुभाव, प्रधानाचार्य जी, अध्यापगण और मेरे सहपाठियों को मेरा नमस्कार| जैसा की हम सभी  बहुत खुशी के साथ यहाँ बाल दिवस मनाने के लिए एकत्र हुये है और इस महान अवसर पर मैं कुछ शब्द कहना चाहता हूँ|

बाल दिवस प्रत्येक वर्ष 14 नवम्बर को मनाया जाता है| यह दिवस स्वतंत्रत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी के जन्म दिवस के रूप मे मनाया जाता है जिन्हे हम चाचा नेहरू के नाम से भी जानते है.

चाचा नेहरू सभी बच्चो से बहुत प्यार करते थे| वे एक राजनीतिक नेता और वह बहुत ही मिलनसार व्यक्ति भी थे| वे हमेशा बच्चो को कठिन परिक्षम और बहादुरी के कार्ये करने के लिए प्रेरित करते थे.

पंडित जवाहरलाल नेहरू जी हमेशा बच्चो को देश का देशभक्त और सुखी नागरिक बनने के लिए प्रेरित और प्रोत्साहित किया करते थे क्योकि वह बच्चो को देश का भविष्य समझते थे|

बाल दिवस हम बच्चो के लिए बहुत ही मस्ती का दिन होता है क्योंकि यह दिन खेल-कूद, आउटडोर खेल, इंडोर खेल, नृत्य नाटक, भाषण, निबंध लेखन, राष्ट्रीय गीत आदि के आयोजनो के द्वारा मनाया जाता है.

बाल दिवस वह दिन होता है| जिस दिन हम बच्चो पर से सभी प्र्तिबंधों को हटा लिया जाता है ताकि हम अपनी इच्छा अनुसार उत्सव मना सके|

मैं आप सभों को चाचा नेहरू यानि पंडित जवाहलाल नेहरू जी के बारे मे कुछ बाते बताना चाहता हूँ’

पंडित जवाहरलाल नेहरू जी का जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद मे एक कश्मीर ब्राह्मण परिवार मे हुआ था| उनके पिताजी इलाहाबाद के जाने माने वकील थे| इसलिए जवाहरलाल नेहरू जी को उन्होने उच्च शिक्षा के लिए इंगलेंड भेजा| नेहरू जी ने वहाँ पर वकालत की और सन 1912 मे वे भारत लौट आये|

इंगलेंड से वे भारत वापस आकार महात्मा गांधी जी से मिले| गांधी जी से मिलने के बाद नेहरू जी- गांधी जी बहुत प्रभावित हुए थे| पंडित जवाहरलाल नेहरू और गांधी जी ने देश की आजादी के लिए बहुत संघर्ष किया था.

भारत की आजादी की आजादी के के लिए लड़ते हुए नेहरू जी कई बाए जेल भी गए| इस प्रकार पंडित जवाहरलाल नेहरू जी भारत की आजादी के लिए लड़ते रहे.

पंडित जवाहरलाल नेहरू जी ने भारत की आजादी के लिए गांधी जी के साथ कई आंदोलन किये और कई संघर्षो के बाद भारत को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिल गई| भारत के आजाद होने के बाद पंडित जवाहरलाल नेहरू जी को भारत का प्रथम प्रधानमंत्री बनाया गया था|

इस प्रकार भारत की सेवा करते – करते 27 मई 1964 को नेहरू जी को दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई|

उनकी मृत्यु के बाद से ही उनका जन्मदिवस हर वर्ष 14 नवम्बर को पूरे भारत मे बाल दिवस के रूप मे मनाया जाने लगा| चाचा नेहरू के निस्वार्थ बलिदान, युवाओ को प्रोत्साहित करने, शांतिपूर्ण राजनीतिक उपलब्धियों के लिए उन्हे हमेशा याद किया जाएगा|

||जय हिन्द जय भारत||

बाल दिवस पर भाषण पर लिखा गया लेख अगर आपको पसंद आये तो आप इसे फेसबुक, व्हाट्सएप्प, ट्विटर इत्यादि पर जरुर शेयर करे| अगर आपको कोई कविता आती है और आप उसे हमारी वेबसाइट पर अपलोड करवाना चाहते है तो फिर आप हमे कमेंट बॉक्स में लिख सकते है.

हम आपके लिए ऐसी नए – नए लेख लेकर आते रहेंगे| इसलिए आप हमारी वेबसाइट का नोटिफिकेशनओन कर ले जिससे आपको हमारे हर लेख की जानकारी मिलती रह करेगी.

आपको HindiMeStatus.com टीम की और से बाल दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ| 🙂

About the author

HindiMeStatus

Leave a Comment