प्रेरणादायक लेख

डिप्रेशन को कहे bye bye

depression
Written by HindiMeStatus

नमस्कार दोस्तो आपका स्वागत है आपकी ही वैबसाइट “www.hindimestatus.com में । आज का शीर्षक ” डिप्रेशन को कहे bye bye”। आज की भागडोर भरी ज़िंदगी में डिप्रेशन एक आम बात है । पर यदि वक़्त रहते इस से मुक्ति ना मिले तो डिप्रेशन घातक साबित हो सकता है । आशा करते हैं की आपको ये पोस्ट ज़रूर पसंद आएगी।

depression

डिप्रेशन क्या होता है ?

डिप्रेशन जिसे आम भाषा में मानसिक तनाव भी बोला जाता है। डिप्रेशन एक ऐसी अवस्था होती है जब चारों तरफ से एक इंसान अपने आपको हारा हुआ ,निराशावादी मानने लगता है।
इस अवस्था में इंसान अपने आपको अकेला समझने लगता है,और वो अपने दुख को लोगो के सामने व्यक्त करने में असमर्थ महसूस करता है ।उसे ज़िंदगी मौत से भी बदत्तर लगने लगती है। और कभी-कभी वो मानसिक तनाव के कारण आत्महत्या जैसे घातक कदम उठाने लगता है ।इस अवस्था के चलते इंसान लोगो पर से ,यहाँ तक की खुद पर से भी विश्वास खो देता है ।और अजीब बात है जो इस मानसिक तनाव से लड़ जाता है वह जीवन का एक नया शिखर हासिल कर लेता है ,और जो नहीं लड़ पाता वह बस एक किस्सा बन कर ही रह जाता है।

डिप्रेशन के कारण

मानसिक तनाव का मुख्य कारण होता है अपनी भावनाओ पर नियंत्रण ना होना ,आवश्यकता से ज़्यादा किसी व्यक्ति या वस्तु से लगाव । जब इंसान खुद से ज़्यादा दूसरों पर विश्वास करता है ,जब वह खुद से ज़्यादा दूसरों से प्यार करता है, और जो इंसान हद्द से भी ज़्यादा सोचता है ऐसा व्यक्ति बहुत जल्दी मानसिक तनाव का शिकार बन जाता है ।
हम कह सकते हैं की जो व्यक्ति दिल का कुछ ज़्यादा ही अच्छा होता है ,जो सबको अपनी तरह समझता है , उसे यह मानसिक तनाव उसकी अच्छाई के लिए इनाम के तौर पर मिलता है। भारत में आज के युवा वर्ग प्रेम प्रसंग मे break-up के कारण मानसिक तनाव के शिकार हो जाते हैं।
इस दुनिया ने हमे ये तो सिखाया है की कामयाब कैसे बने ? पर किसी ने भी ये नहीं बताया की जब कामयाब न हो पाये तो उस असफलता से कैसे लड़े ? और इसी सामाजिक दबाब के कारण की कामयाब बनो नहीं तो ज़िंदगी नर्क बन जाएगी बहुत सारे लोग डिप्रेशन में आ जाते हैं ।

डिप्रेशन के लक्षण

1 . जब व्यक्ति सामाजिक दूरी बनाने लगे ,ज़्यादातर समय अकेला ही रहने लगे।
2 . जब व्यक्ति हद्द से ज़्यादा सोचने लगे
3.  अनिद्रा
4.  जब व्यक्ति छोटी-छोटी बातों पर अपना आपा खोने लग जाए।
ये सभी डिप्रेशन के मुख्य कारण हैं ।

मशहूर हस्तियाँ जो हुई डिप्रेशन का शिकार

  • मशहूर अभिनेत्री दीपिका पादुकोन ने भी बताया की वो जब अपने कैरियर के शिखर पर थी, तब भी कैसे डिप्रेशन उन्हे अंदर ही अंदर खाली कर रहा था।उन्होने आने एक इंटरव्यू में बताया था की ,कैसे वो शूट ख़तम करती ओर फिर घंटो अकेले रोया करती थी ।पर उन्होने हार नहीं मानी और अपने डिप्रेशन के बारे में खुल कर बात की।उन्होने लोगो को जागरूक भी किया की वह कैसे अपने डिप्रेशन से मुक्ति पा सकते हैं।
  • हाल ही में मशहूर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने डिप्रेशन के चलते आत्महत्या कर ली ।कोई समझ ही नहीं पाया की एक हंसमुख चेहरे के पीछे इतना दर्द छुपाए हुए थे ।और डिप्रेशन के चलते एक सितारा हमेशा के लिए हम सब से दूर हो गया ।

डिप्रेशन से कैसे बचे ?

वैसे तो डिप्रेशन हमारी सोच का ही एक रूप है ,कहा भी गया है जैसी दृष्टि वैसी ही सृष्टि ।इसलिए हम जैसा सोचते हैं वैसा हम बन जाते हैं ।डिप्रेशन से बचने के लिए हमे ये समझना चाहिए की हार-जीत ,सुख-दुख जीवन के ही पहलू हैं । ज़िंदगी कोई फूलो का बिस्तर नहीं है ,बल्कि अगर तुम्हें यहाँ फूलो की चाहत है तो कांटो से तो गुजरना ही पड़ेगा ।
हमे ये समझना चाहिए की दुनिया का कोई भी दूसरा इंसान हमे खुश नहीं कर सकता ,तो फिर क्यूँ हम अपनी खुशियों की चाबी किसी और के हाथो में सोंप देते हैं?
हम अपनी भावनात्मक कमज़ोरी के कारण खुद ही दुख को निमंत्रण दे देते हैं । मानसिक तनाव हमारे मन का रोग है जो हमारे कारण ही उत्पन्न होता है,और इस मानसिक तनाव को दूर करने के लिए हमे समझना चाहिए की ज़िंदगी ईश्वर का दिया हुआ वरदान है ।कहते हैं की 84 लाख योनियों के बाद हमे यह मानव जीवन प्राप्त होता है ,पर हम इसकी कीमत को पहचान ही नहीं पाते ,और इस हीरे समान जीवन को व्यर्थ गँवा देते हैं।अगर हम मानसिक तनाव से मुक्ति चाहते हैं तो हमे सबसे पहले खुद से प्यार करना सीखना होगा,सबसे पहले खुद की इज्ज़त करना सीखना होगा ।ये जीवन तो एक मेला है यहाँ कभी लोग मिलेंगे तो कभी बिछड़ जाएंगे पर आप खुद के साथ हमेशा रहेंगे ।
ध्यान ही एकमात्र रास्ता है जिसके द्वारहूम खुद से जुड़ सकते हैं । और ध्यान करने से ही हमारी भावनाए नियंत्रण में आती है और हमे जीवन के मोल का ज्ञान होता है ।
इसलिए अगर आप डिप्रेशन से मुक्ति चाहते हैं तो आपको नियमित रूप से ध्यान करना चाहिए ।

दोस्तो ये जीवन बहुत प्यारा ,बहुत हसीन है।इसे एक फिल्म की तरह की तरह समझो और खुद को एक किरदार की तरह ।और ऐसी भूमिका निभाओ की भले ही तुम्हारा किरदार खत्म हो जाए पर लोग मिसाल दे की वाह क्या जीया था वो॥
दोस्तो अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो कमेंट करके ज़रूर बताए ।
दीपिका परमार

About the author

HindiMeStatus

Leave a Comment