प्रेरणादायक लेख

डर से breakup

hindimestaus
Written by HindiMeStatus

नमस्कार दोस्तो आपका स्वागत है आपकी ही वैबसाइट “www.hindimestatus.com में ।आज का शीर्षक है “डर से breakup”।दोस्तो हमारा डर कभी कभी हम पर इतना हावी हो जाता है की हमारा जीवन हमारे लिए बोझ बन जाता है।इस डर से जीतना बहुत ज़रूर है।आगे आप
पढ़ेंगे की आप इस डर से कैसे जीत सकते हैं।हम को आशा है की ये पोस्ट निश्चित रूप से आपको आपके डर से जीतने में मदद करेगी।hindimestaus

डर जी हाँ ये डर हम सबको लगता है ।कभी ज़िंदगी में असफल होने का डर ,किसी के साथ छोडने का डर ,कल क्या होगा इस बात का डर ।
इस डर मे ही कभी दिन गुज़र जाते हैं ,कभी महीने ,कभी साल,तो कभी पूरी की पूरी ज़िंदगी ही बीत जाती है ।

क्यूँ ये डर कभी-कभी इतना बढ़ जाता है की इस से हार कर इंसान खुद को ही खतम कर देता है ?
क्या इतना कमजोर है इंसान ?
क्या वो इस डर से जीत कर इस डर को खतम नहीं कर सकता ?
कर सकता है ,बिलकुल कर सकता है ।बस थोड़ी सी हिम्मत और खुद पर अटूट विश्वास की ज़रूरत होती है ।

किस बात से डरते हो ? उस आने वाले कल से?जिसका control तुम्हारे हाथ मे बिलकुल भी नहीं है ।वो आने वाला कल आएगा भी नहीं इस बात की भी कोई भविष्यवाणी नहीं कर सकता है।इस बात को समझो की तुम सिर्फ चंद साँसो के मोहताज हो जिसके पास एक सीमित समय है ।फिर क्यूँ डर जाते हो ?अपने आज में जियो ,सिर्फ इस पल में जियो और हर दिन खुद को एक बेहतर इंसान बनाए ।अपने हर पल को पूरी शिद्दत के साथ अपने सपने के नाम कर दो ,क्या हुआ अगर फ़ेल भी हो गए तो कम से कम ये संतुष्टि होगी की तुमने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया ।

hindimestatus

तुम्हें किसी को कुछ साबित करने की कोई ज़रूरत नहीं है क्यूंकी ये ज़िंदगी तुम्हारी है ,तुम्हारी सफलता असफलता सिर्फ तुम्हारी है ।हार और जीत एक सिक्के के दो पहलू हैं ,तुम्हें तब तक कोई नहीं हरा सकता जब तक तुम खुद को हारा हुआ नहीं मान लेते ।

hindimestatus

जब मंज़िल की तलाश में निकाल पड़े हो तो रास्ते में ठोकरे तो मिलेंगी ही ना जहां गिरोगे वहाँ फिर खड़े हो कर चलना सीखना पड़ेगा ।डर सिर्फ तुम्हारे मन का जाल है ,सिर्फ तुम्हारे मन का जाल है ।ये डर तुम्हें डराएगा तुम्हें हर वो वजह देगा की क्यूँ तुम अपने सपने को पूरा नहीं कर सकते ,पर इतनी आसानी से इस डर को जीतने मत देना ,अपने सपनों से मुंह न मोड़ लेना ।ये डर क्या जाने तुम्हारे सपनों की अहेमियात ।

याद रखना किसी पल में डर से डरकर पीछे हटाये गए कदम ज़िंदगी भर का पछतावा बन जाते हैं।और उसी पल में हिम्मत के साथ आगे बढ़ाए हुए कदम ज़िंदगी भर की खुशियाँ दे जाते हैं ।

डर तो रिश्तो के टूटने से भी लगता है ,किसी का साथ छूटने से भी लगता है ।

इसके संदर्भ में भगवान श्री कृष्ण ने भगवत गीता में कहा है की “किस चीज़ को खोने से तुम डरते हो?ऐसा तुम क्या लेकर आए थे जो तुमने खो दिया ?जो तुमने यहाँ से लिया यही दे दिया फिर क्यूँ घबराते हो?जो आज तुम्हारा है वो कल किसी और का था ,और कल किसी और का होगा ,तो फिर क्यूँ व्यर्थ ही चिंता करते हो सांसारिक वस्तुयों को खोने की ?”

hindimestatus

जी हाँ इस दुनिया में हर चीज़ श्रणिक है ,चाहे वो कोई वस्तु है ,चाहे कोई इंसान हो ,एक ना एक दिन तो सब कुछ ही छोड़ना होगा ।फिर लोगो से मोह ,वस्तुयों से मोह करके क्या हासिल कर लोगे ?

कुछ नहीं ना , तो फिर निकाल फेंको अपने अंदर से इस डर को जो तुम्हें खुल कर ज़िंदगी जीने नहीं देता ।अपनी ज़िंदगी में तुम वो खुशी बनो ,वो प्यार बनो जो खुशी जो प्यार तुम औरों से चाहते हो ।ये जीवन भगवान की अनमोल देन है किसी से भी कोई उम्मीद मत लगायों ,मत मांगो किसी का भी साथ ,तुम सिर्फ अपना फर्ज़ निभायों ,जो किरदार ईश्वर ने तुम्हें दिया है तुम्हें उसकी भूमिका पूरी शिद्दत से निभानी है ।

दोस्तो वक़्त बहुत कम है और हम सब जीवन के मुसाफिर हैं ,ये ज़िंदगी एक खूबसूरत सफर है ,अपने किसी भी तरह के डर को इस सफर का बाधक मत बनाओ ।तुम सिर्फ तुम ही अपने डर से जीत सकते हो कोई और नहीं ।

दोस्तो कैसी लगी आपको ये पोस्ट, comment कर के ज़रूर बताए ।

-दीपिका परमार

 

About the author

HindiMeStatus

Leave a Comment