प्रेरणादायक लेख

खुद से प्यार करो

khud se pyar karo
Written by HindiMeStatus

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है आपका आपकी अपनी वेबसाइट HINDIMESTATUS.com पर। आज का शीर्षक है ” खुद से प्यार करो”..

khud se pyar karo
लोग क्यूँ मेरा दिल दुखाते हैं ? लोग क्यूँ मुझे नज़रअंदाज़ करते हैं ? सब के साथ अच्छा करने पर भी क्यूँ सब मेरे साथ गलत करते हैं ? आखिर क्यूँ ??
ये सवाल तो आप खुद से ना जाने कितनी बार करते होंगे ना?

बहुत आसानी से किसी ओर को अपना गुनहगार साबित कर देते हैं … और करे भी क्यूँ ना किसी को blame करना सबसे आसान काम जो है
क्या कभी खुद से एक बार भी ये सवाल किया है आखिर क्यूँ मैं ज़बरदस्ती अपनी खुशियों का ठेकेदार किसी दूसरे को बना देता हूँ ?
क्यूँ अपने सुख का , अपने दुख का ,अपनी हसी का ,अपने आँसुओ का रिमोट कंट्रोल किसी ओर के हाथ मे दे देता हूँ ?
क्यूँ अपने गमो की नुमाइश कर के एक भिखारी की तरह किसी और से प्यार की ,सम्मान की, अपनेपन की भीख मांगता हूँ ?
तो बदले मे आपको भीख ही मिलेगी ना॥

तो बताए अब कौन है गुनहगार आप या कोई और ?

इस दुनिया ने इस समाज ने हमे बस यही सिखाया ही की दूसरों की इज्ज़त करो ,दूसरों से प्यार करो , कुछ ऐसा न करो जिस से किसी का दिल दुखे, पर किसी स्कूल मे ,किसी कॉलेज मे हमे ये तालिम कभी नहीं दी की खुद से भी प्यार करो …
             “अरे जब तू करता नहीं खुद का सम्मान , फिर किस हक़ से लड़ेगा जब करेगा तेरा कोई अपमान”

हम खुद को अधूरा मान कर किसी और से जुड़ कर खुद को मुकम्मल करने की कोशिश करते हैं …ना जाने कितनी सारी expectations,लोगो के judgement का बोझ ले कर चलते हैं॥

दुनिया का क्या है ये कामयाबी के वक़्त तालियाँ और बुरे वक़्त मे गालियां देती है,कमाल की बात है दुनिया के नज़रिये को हम अपनी पहचान बना लेते हैं||

कभी खुद को खुद की नजरों से भी देखो ,की आप एक इंसान हो ॥ जो दूसरों को खुश रखते रखते अपनी खुशियाँ भूल गया है,जो दूसरों का दोस्त बनते बनते अपने दुश्मन बन गया हैं,जो दूसरों का के लिए खड़े होते होते खुद ही तन्हा हो गया है॥

मत करो खुद के साथ ये बेईमानी कहीं दूसरे को जीतते जीतते खुद को ही ना हार जाना…

आज़ाद कर दो !!
आज़ाद कर दो खुद को इन expectations के बोझ से किसी ओर के लिए नहीं बल्कि खुद के लिए.
ओर जब लगे आप अकेले हो तो बस यही सोचना की अकेले ही आए थे ओर अकेले ही जाना होगा ,मेले मे लोग तो आते हैं ओर चले जाते हैं क्या फर्क पड़ता है कोई साथ है या नहीं॥

इसलिए दोस्तो खुद से प्यार करने सीखो, खुद का सम्मान करो॥ फिर देखो ज़िंदगी कैसे रोशन हो जाएगी ..और दुनिया की सारी खुशियाँ हाथ फैलाये तुम्हारा स्वागत करेंगी ॥
अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कमेंट करके ज़रूर बताए ॥

About the author

HindiMeStatus

Leave a Comment